कौन सी आवाज हमें सार्वजनिक जगहों मे सुरक्षित महसूस कराती हैं?

जुलाई 30, 2015
Contact: umichnews@umich.edu

कौन सी आवाज हमें सार्वजनिक जगहों मे सुरक्षित महसूस कराती हैं?एन आर्बर- ज्यादातर लोग पार्किंग संरचना या अंधेरी जगहों में चलने से घबराते है।

इस डर को कैसे कम करे? मिशिगन यूनिवर्सिटी की विपणन प्रोफेसर अराधना कृष्णा के नए शोध के अनुसार कुछ परिवेश और आवाजें सुरक्षा की भावना पैदा करती है।

“एक पार्किंग गैरेज, मेट्रो स्टेशन या हवाई अड्डे के टनल जैसे सार्वजनिक स्थानों में अकेले होने से लोगों में बेचैनी हो जाती है,” कृष्णा ने कहा, जो मिशिगन रॉस बिजनेस स्कूल में ड्वाइट एफ बेंटन मार्केटिंग प्नोफेसर और संवेदी विपणन प्रयोगशाला की निदेशक है।

“यह सिर्फ लोगों के बुरी भावनाओं के बारे में नहीं है। जब लोग ऐसे क्षेत्रों से सक्रिय रूप में जाने से कतराते है तो इसका व्यापार पर नकारात्मक प्रभाव हो सकता है। “कुछ विक्रेताओं ने ‘ग्राहकों के मूड और धारणाओं को प्रभावित करने के लिए ऐम्बीअन्ट आवाज़ों का इस्तेमाल किया है। हम पता लगाना चाहते थे कि कौन से परिवेश ध्वनि लोगों को सुरक्षित महसूस कराती हैं। “

कृष्णा और उनके सहयोगियों ने पेरिस में Champs-Élysées के एक भूमिगत पार्किंग स्थल और चार प्रयोगशाला प्रयोगों मे लोगों की भावनाओं और व्यवहार पर परिवेशी आवाजो के प्रभाव की जांच की।

शोधकर्ताओं ने भूमिगत पार्किंग स्थल में शास्त्रीय वाद्य संगीत, पक्षी चहचहाट और खामोशी का इस्तेमाल किया। बर्ड सॉंग सुनने वाले लोगों ने वाद्य संगीत, या खामोशी सुनने वाले लोगों की तुलना में अधिक सुरक्षा की भावना महसूस की।

एक और प्रयोग में शोधकर्ताओं ने मिश्रण में मानव स्वर को भी जोड़ा और लोगों ने पक्षी गीत और मानव स्वर दोनों की तरफ सकारात्मक प्रतिक्रिया व्यक्त की। बर्ड सॉंग और मानव स्वर दोनो ने लोगों को सामाजिक उपस्थिति महसूस कराई जिससे उनके सुरक्षा की भावना मे वृद्धि हुई।

कृष्णा और उनके सहयोगियों ने फिर ध्वनियों का उपभोक्ता व्यवहार पर परीक्षण किया। अध्ययन के प्रतिभागियों ने मेट्रो स्टेशन के एक वीडियो के साथ विभिन्न ध्वनियाँ-मानव आवाज, पक्षी गीत, वाद्य और खामोशी – सुनी। फिर उन्होनें स्टेशन के बारे में कई सवालों का जवाब दिया कि वे स्टेशन पर एक मासिक पास खरीदनो पंसद करेंगे या नहीं।

जिन्होनें मानव वोकल्स और पक्षी गाने के साथ वीडियो देखा, उन्होनें स्टेशन को अधिक सुरक्षित बताया और वाद्य संगीत या खामोशी सुनने वाले लोगों की तुलना में वहाँ मासिक पास खरीदने की अधिक संभावना बताई।

“हमने दिखाया कि खतरनाक माने जाने वाले सार्वजनिक स्थलों में परिवेशी आवाजों से सुरक्षा की भावना को बढ़ा सकते हैं,” कृष्णा ने कहा।

कृष्णा सतर्कता का एक नोट भी देती है “जो स्थान वास्तव में असुरक्षित हैं वहाँ ध्वनियों का उपयोग कर झूठी सुरक्षा की कोशिश न करें।

यह शोध इंटरनेशनल रिसर्च जर्नल इन मार्केटिंग के आगामी अंक में प्रकाशित किया जाएगा। कृष्णा के सह-लेखकों में मैड्रिड के IE बिजनेस स्कूल की इदा सेइंन, फ्रांस के यूनिवर्सिटी पेरिस Ouest Nanterre की कैरोलीन आर्डलेट, LUNAM विश्वविद्यालय और फ्रांस के एन्जर्स विश्वविद्यालय की Gwenaëlle Briand decre, और फ्रांस के Neoma बिजनेस स्कूल के एलेन गोडे शामिल हैं।

अधिक जानकारी:
अराधना कृष्णा