चावल की खेती के कूड़ा- करकट से उपयोगी सिलिका काम्पाउन्ड

दिसम्बर 23, 2015
Contact: umichnews@umich.edu

इस प्रक्रिया को विकसित करने वाले शोधकर्ता का कहना हैं कि इस तरह के सिलिका यौगिकों के उत्पादन से प्रति टन सिलिका पर लगभग छह टन कार्बन उत्सर्जन बचा सकते है। उन्होंने कहा कि तकनीक की लागत मौजूदा प्रक्रिया की तुलना में 90 प्रतिशत कम होने का अनुमान है, और साथ ही इसका लगभग कोई कार्बन पदचिह्न भी नही होगा।

रिचर्ड लेन, सामग्री विज्ञान और इंजीनियरिंग के प्रोफेसर द्वारा विकसित यह कृषि अपशिष्ट से उच्च शुद्धता वाले सिलिका यौगिकों का उत्पादन का पहला सरल, सस्ता रासायनिक विधि माना जा रहा है।

कृषि के कूड़ा – करकट में ज्यादातर सिलिका होता है, और इसे निकालने के लिए व्यावहारिक रास्ते की लिए खोज 80 साल पहले शुरू हुई थी। इस नई प्रक्रिया कई प्रकार के कृषि अपशिष्ट से सिलिका और सिलिकॉन युक्त रसायनों के उत्पादन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन लेन ने चावल प्रसंस्करण से बचे हल्स के उपयोग पर ध्यान केंद्रित किया।

छिलका चावल का सबसे बाहरी परत है। जब चावल संसाधित किया जाता है उसे हटा दिया गया है। हर साल दुनिया भर में लाखों टन हल्स उत्पादित किया जाता हैं। कई बिजली के उत्पादन के लिए जला दिया जाता है और बचे राख में उच्च स्तर का सिलिका होता हैं। इस राख से कुछ निर्माण में या इन्सुलेशन के रूप में प्रयोग किया जाता है, लेकिन ज्यादातर लैन्ड्फिल में फेंक दिया जाता है।

लेन ने तकनीक का व्यवसायीकरण करने के लिए एक मिशिगन कंपनी, मायासिल, का गठन किया है। एन आर्बर में स्थित यह कंपनी “पूर्व पायलट” की प्रक्रिया में है जहाँ र्निर्माण की प्रक्रिया को बढ़ाकर विकसित किया जाएगा। अगर बड़े पैमाने में यह सफल होता है, लेन का कहना हैं कि यह मौलिक सिलिका उत्पादों के बनाने और इस्तेमाल को बदल देगा।

“मुझे लगता है कि हम चावल के खेतों के ठीक बगल में उच्च शुद्धता वाले सिलिका और अन्य सिलिकॉन यौगिकों का उत्पादन करेगें,” लेन कहा। “एक ही स्थान में चावल की प्रक्रिया और कम कार्बन पदचिह्न के साथ उच्च ग्रेड सिलिका का उत्पादन संभव हो जाएगा। यह वास्तव में बहुत रोमांचक है।”

लेन को हाल ही में इस पर काम के लिए मिशिगन पर्यावरण गुणवत्ता विभाग की ओर से 2015 मिशिगन ग्रीन कैमिस्ट्री राज्यपाल पुरस्कार प्राप्त हुआ हैं। मायासिल सिलिका के उत्पादन की प्रक्रिया पर एक पेटेंट रखती है।

“”Avoiding carbothermal reduction: Distillation of alkoxysilanes from biogenic, green, and sustainable sources” ” शीर्षक का पेपर Agewandte Chemie जर्नल में प्रकाशित हुआ है। अनुसंधान राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन से अनुदान (अनुदान संख्या डीएमआर 11,053,671) द्वारा समर्थित किया गया था।

अधिक जानकारी:

रिचर्ड लेन