नशे में होगा ड्राइवर, तो नहीं चलेगी कार

अप्रैल 2, 2015
Contact: umichnews@umich.edu

एक आदमी एक शराब इग्निशन गूंथ डिवाइस में चल रही है। (शेयर छवि)एन आर्बर: अगर हर कार के अंदर रक्त में अल्कोहल के स्तर की परीक्षा करने की क्षमता होती, तो क्या जीवन बचाया, चोटों को रोका, और चोट से निपटने के लिये डॉलर बचाया जा सकता है?

अब तक भले ही ये कल्पना लगता हो पर अब ऐसी कोशिशें शुरू हो गयी हैं। मिशिगन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के अनुसार इससे चोट की रोकथाम और लागत बचत का अनुमान महत्वपूर्ण हैं।

मिशिगन यूनिवर्सिटी के परिवहन अनुसंधान संस्थान और चोट केंद्र के रिसर्चर्स की एक टीम ने करीब 15 सालों से नई कारों में शराब की पहचान कर कार का इग्निशन लॉक कर देने वाले ऐसे डिवाइस के इफेक्ट का अध्ययन किया। इग्नीशियन से जुड्री ये डिवाइस कार में ऐसे लगाई जायेंगी कि वो ड्राइवर के खून में अल्कोहल की मात्रा को चेक कर लेगी और इग्नीशियन लॉक हो जाएगा जिससे कार नहीं चल सकेगी

अमेरिकन जर्नल आफ पब्लिक हेल्थ में ऑनलाइन प्रकाशित अध्ययन के अनुसार अमेरिका में शराब से होने वाले कार एक्सीडेंटस को ८५ परसेंट टाला जा सकता है। इस डिवाइस के सक्सेजफुल होने का मतलब है कि सिर्फ अमेरिका में कार एक्सीडेंटस के कारण होने वाली 59,000 मौतों को टाला जा सकता है।

इसके अलावा इससे कम हार्मफुल कार हादसों में से भी करीब 12.5 लाख दुर्घटनाओं को टाला जा सकता है और देश में 84-89 प्रतिशत की कमी देखी जा सकती हैं।

अमेरिकी समाज में 15 साल में $343 बिलियन डालर बचाया जा सकता था। उपकरणों की स्थापना की लागत सिर्फ तीन साल के अंदर रिकूप किया जा सकता हैं।

“हमें पता था कि हमारे मॉडलिंग से महत्वपूर्ण परिणाम मिलेगें, लेकिन मौत और गंभीर चोटें रोके जाने की संख्या आश्चर्यजनक हैं। हमारे स्टडी का विश्लेषण साफ दिखाता हैं कि इग्निशन अपने आप लॉक कर देने वाले इस उपकरण से युक्त कार के इस्तेमाल से पब्लिक हेल्थ बैनेफिट और सोशल कॉस्ट की बचत होती हैं,” पैट्रिक कार्टर ने कहा जो मेडिकल स्कूल में आपातकालीन चिकित्सा विभाग में सहायक प्रोफेसर और चोट सेंटर में कोर संकाय हैं।

अमेरिका में बेचे जाने वाले सभी नए वाहनों पर अगर शराब इंटरलॉक लगाया जाये, इस पालीसी को माडल करने वाला यह पहला अध्ययन है।

इस विश्लेषण में मोटर वाहन दुर्घटनाओं में अक्सर यूज़ किये जाने वाले दो राष्ट्रीय डेटा सेट हैं – फटैलटी विश्लेषण रिपोर्टिंग प्रणाली और राष्ट्रीय मोटर वाहन नमूनाकरण प्रणाली के जनरल सिस्टम डेटा सेट।

इसका सबसे अधिक लाभ कम उम्र के ड्राइवरों को मिलेगा। 21-29 साल के बीच के ड्राइवरों में 481,000 मृत्यु और चोटे रोका जा सकेगा जो कुल मौतों और चोटों का लगभग 35 प्रतिशत है। ड्राइविंग भी काफी लाभ होगा, जबकि संभवतः रोका साथ, पीने में लगे हुए हैं, जो 21 साल से छोटे ड्राइवरों में लगभग 195,000 लोगों की मृत्यु और चोटें टाला जा सकता है।

“इन आयु के समूहों में अक्सर प्रभावी सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों को लागू करना मुश्किल होता है,” कार्टर ने कहा। “अगर शराब पता लगाने वाले सेंसर जो सहज तरीके से चालक और सारे नये वाहनों पर लागू किया जा सके तो हम उच्च जोखिम वाले आबादी को आसानी से पहुंच सकते हैं। “

इस शोध के सह लेखक डॉ रेबेका कनिंघम, आपातकालीन चिकित्सा विभाग एवं जन स्वास्थ्य स्कूल में प्रोफेसर हैं और चोट केंद्र की निदेशक हैं जो रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र द्वारा वित्त पोषित है; और जोनाथन रूप, कैरल फ्लैनगन और उम परिवहन अनुसंधान संस्थान के रे बिंघम हैं।

इस शोध को राष्ट्रीय शराब दुरुपयोग और ऐल्कहॉलिज़म संस्थान, रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र और यू-एम चोट केंद्र द्वारा सपोर्ट मिला।

अधिक जानकारी:

पैट्रिक कार्टर
यू-एम चोट केंद्र
यू-एम परिवहन अनुसंधान संस्थान