पुरुषों अौर महिलाओं में कम टेस्टोस्टेरोन देता है अधिक संतोषजनक संबंध

अप्रैल 11, 2014
Contact: umichnews@umich.edu

पुरुषों अौर महिलाओं में कम टेस्टोस्टेरोन देता है अधिक संतोषजनक संबंधएन आर्बर: बहुत लोग सोचते हैं कि अधिक टेस्टोस्टेरोन बेहतर है, लेकिन यूनिवर्सिटी ऑफ़ मिशिगन का एक नए अध्ययन बताता हैं कि रोमांटिक संबंधों के लिये यह सच नहीं है।

कम टेस्टोस्टेरोन पुरुषों अौर महिलाओं के लिये अच्छी बात हो सकती है क्योंकि कम टेस्टोस्टेरोन के दौरान उन्होंने संबंधों के प्रति अधिक संतुष्टि और कमिट्मन्ट बताया।

अधिक टेस्टोस्टेरोन आम तौर पर यौन साथी को आकर्षित करने के साथ जुड़ा हुआ है , लेकिन लंबी अवधि के संबंधों के लिये यह उपयुक्त नही हैं, रॉबिन एडलस्टाइन ने कहा जो मिशिगन विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान विभाग में सहयोगी प्रोफेसर और अध्ययन की प्रमुख लेखक हैं।

” आम तौर पर यह धारणा हैं कि उच्च टेस्टोस्टेरोन यौन संबंधों के लिए अच्छा है है ,” एडलस्टाइन ने कहा। “पर जब वो रोमांटिक संबंध या रिश्ते में हैं , कम टेस्टोस्टेरोन फायदेमंद या बेहतर हो सकता है।”

पिछले अध्ययनों ने टेस्टोस्टेरोन के स्तर अौर पुरुषों के रिश्तों की उसके गुणवत्ता की जांच की है , लेकिन मिशिगन विश्वविद्यालय के अनुसंधान ने पहली बार महिलाओं के साथ टेस्टोस्टेरोन के असोसीएशन को प्रदर्शित किया है।

शोध ने 39 विषमलैंगिक जोड़ो का अध्ययन जिनकी उम्र 18-31 के बीच थी अौर वो एक रोमांटिक संबंध मे थे। उन्होंने अपने रिश्ते (” मेरा रिश्ता आदर्श करे “), संतुष्टि, और प्रतिबद्धता (” मैं चाहते हूँ कि यह रिश्ता कभी खत्म ना हो) के बारे में सवालों के जवाब दिए। प्रतिभागियों ने विश्लेषण के लिए अपने थूक भी दिये।

शोधकर्ताओं का यह निष्कर्ष था कि एक व्यक्ति के रिश्ते की गुणवत्ता अपने और अपने साथी के टेस्टोस्टेरोन स्तर के साथ जुडा हुआ था।

यह शोध हार्मोन और बिहेव्यर के अप्रैल के अंक में पब्लिश हुआ।

अध्ययन के अन्य लेखकों में साड़ी वैन ऐन्डर्स , विलियम चपक, कैथरीन गोल्डी और ब्रिटनी वॉर्डेकर शामिल थे।

संबंधित लिंक: Robin Edelstein: http://bit.ly/1gQftYw