मानसिक रूप से चुनौतीपूर्ण काम सेवानिवृत्ति के बाद दिमाग को तेज रखते हैं

मार्च 28, 2014
Contact: umichnews@umich.edu

एक डेटा चार्ट का विश्लेषण व्यवसायी. (शेयर छवि)

एन आर्बर: एक नए अध्ययन के अनुसार मानसिक चुनौती वाले काम आपको तनाव देते है लेकिन रिटायर होने के बाद महत्वपूर्ण लाभ प्रदान कर सकते हैं । एक अध्ययन में वैज्ञानिकों ने पाया है कि यदि आप मानसिक चुनौती वाले काम को पसंद करेंगे, तो बुढ़ापे में भी भूलने की बीमारी नहीं होगी।

कोलोराडो स्टेट विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान के सहायक प्रोफेसर अौर यूनिवर्सिटी ऑफ़ मिशिगन सामाजिक शोध संस्थान में सहयोगी ग्वेनिथ फिशर ने कहा, “”कुछ ऎसे चुनौतीपूर्ण काम हैं, जो इसे करने वालों में बुढ़ापे में भी मानसिक क्षमता को सुरक्षित करता है या बढ़ा सकता है।””

प्रोफेसर ने यह निष्कर्ष 18 साल तक 4,182 लोगों पर अध्ययन कर निकाला।

उन्होंने अध्ययन में हिस्सा लेने वाले प्रतिभागियों से 1992 और 2010 के बीच आठ बार पूछताछ की। इस प्रक्रिया की शुरूआत में प्रतिभागियों की उम्र 51 से 61 के बीच थी।

ये प्रतिभागी अलग-अलग कार्यो से जुड़े थे और वे सेवानिवृत्त होने से पहले वे करीब 25 साल से अधिक वही कार्य करते रहे थे। वे सेवानिवृत्त होने से पहले , औसत पर , 25 से अधिक वर्षों से एक ही प्रकार का काम कर रहे थे। फिशर और उनके सहयोगियों ने प्रतिभागियों के काम के दौरान मानसिक आवश्यकताओं की जांच की। इसमें डेटा का विश्लेषण, उद्देश्यों और रणनीति विकसित करना, निर्णय लेना, समस्याओं को सुलझाना, जानकारी का मूल्यांकन और रचनात्मक सोच शामिल थे।
उन्होंने प्रासंगिक स्मृति और मानसिक स्थिति के मानक परीक्षण का उपयोग कर , ‘प्रतिभागियों के मानसिक कामकाज का आकलन किया।

इसके अलावा, शोधकर्ताओं ने शोघ को प्रतिभागियों के स्वास्थ्य, अवसाद , आर्थिक स्थिति और शिक्षा के वर्षों के लिये भी नियंत्रित किया।

अध्ययन में पाया गया कि जो लोग कठिन मानसिक क्रिया वाले कार्यो से जुड़े थे, उनकी याद्दाश्त क्षमता सेवानिवृत्त होने के बाद भी बेहतर थी।

साथ ही जो लोग सरल कार्यो से जुड़े थे उनकी याददाश्त क्षमता अच्छी नहीं थी।

सेवानिवृत्ति के समय डिफरन्स अधिक नहीं था, लेकिन समय के साथ उसमें वृद्धि हुई।

यूनिवर्सिटी ऑफ़ मिशिगन के सामाजिक शोध संस्थान की सहायक शोध वैज्ञानिक जेसिका फाउल ने कहा, “इस परिणाम से पता चलता है कि अलग-अलग प्रकार की मानसिक क्रियाओं वाले काम कर्मचारी के लिए फायदेमंद हैं।”

“यह नया अनुभव या अधिक मानसिक रूप से जटिल काम नए कार्यकर्ताओं या अधिक अनुभवी कर्मचारियों के लिये भी लाभकारी हो सकता है , ” उसने कहा।
” यदि संभव हो तो नियोक्ता को जीवन भर सीखने की गतिविधियों पर बल देना चाहिए।”

अध्ययन मानसिक काम की मांग और सेवानिवृत्ति के बाद संज्ञानात्मक परिवर्तन के बीच अनौपचारिक संबंध स्थापित नहीं किया, शोधकर्ताओं ने कहा।

फाउल ने कहा कि यदि कोई अपने रोजमर्रा के काम से हटकर भी कुछ करता है, तो वह भी उसक याददाश्त क्षमता को प्रभावित करता है।

यह शोध पत्र शोध पत्रिका जर्नल ऑफ अक्यूपेशनल हेल्थ साईकोलॉजी में प्रकाशित हुआ।

यूनिवर्सिटी ऑफ़ मिशिगन स्वास्थ्य और सेवानिवृत्ति अध्ययन मुख्य रूप से ऐजिंग की राष्ट्रीय संस्थान द्वारा वित्त पोषित कराई गई। अतिरिक्त धन सामाजिक सुरक्षा प्रशासन द्वारा उपलब्ध हुआ।