मिशिगन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक को कैंसर बायोमार्कर्स के लिए मिला 65 लाख डॉलर का पुरस्कार

सितम्बर 14, 2018
Contact: Mandira Banerjee mandirab@umich.edu
Dr. Arul Chinnaiyan.

Dr. Arul Chinnaiyan.

चिन्नैयन को फन्डिंग नए कैंसर मार्करों को मूल्यांकन करने में मदद करेगे है जो उपचार लक्ष्य बन सकते हैं

एन आर्बर – भारतीय मूल के वैज्ञानिक चिन्नैयन को कैंसर बायोमार्कर्स की पहचान के लिए 65 लाख अमेरिकी डॉलर का पुरस्कार दिया गया है। कैंसर बायोमार्कर की पहचान से कैंसर के उपचार और इस घातक बीमारी के लिए नई लक्षित थेरेपी के विकास में मदद मिलेगी।

मिशिगन यूनिवर्सिटी के शोधकर्त्ता चिन्नैयन को नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट से ‘आउटस्टैंडिंग इन्वेस्टीगेटर अवार्ड’ प्रदान किया है।

यह अनुदान नए जैव सूचना विज्ञान संसाधनों को बनाने, नए कैंसर बायोमाकर्स की पहचान करने, और निदान में सुधार लाने और अंततः नए लक्षित उपचार विकसित करने के शोध में मदद करेगा।

“इस अनुदान से हमें नए बायोमार्कर की पहचान और कैंसर की वृद्धि में उनकी जैविक भूमिका में समझने में मदद मिलेगी,” यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन मेडिकल स्कूल में पैथोलॉजी के प्रोफेसर चिन्नैयन ने कहा।

यह पुरस्कार – जो पारंपरिक व्यक्तिगत जांचकर्ता पुरस्कार से लगभग तीन गुना हैं – राष्ट्रीय कैंसर संस्थान द्वारा विकसित आर-35 नामक एक अनुदान कार्यक्रम का हिस्सा है। यह सात साल की विस्तारित अवधि में कैंसर अनुसंधान में असामान्य क्षमता की परियोजनाओं को निधि देने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

कैंसर के जानकार चिन्नैयन ने 2010 में मिशिगन ऑकोलाजी सिक्वेंसिंग (एमआई-ओएनसीओएसईक्यू) कार्यक्रम शुरू किया। एमआई-ओएनसीओएसईक् ने अब तक 3,000 से अधिक मरीजों को नामांकित किया है और कैंसर चलाने वाले जेनेटिक उत्परिवर्तनों की समझ को विस्तारित करते हुए कई प्रकाशन भी प्राप्त किए हैं।

बायोमार्कर या बायोलॉजिकल मार्कर एक प्रकार का संकेतक है जो जैविक स्थिति या हालात की जानकारी देता है.

इस कार्यक्रम में एक सटीक ट्यूमर औषधि बोर्ड भी शामिल है, जिसमें विशेषज्ञ हर मामले पर चर्चा करते हैं। चिन्नैयां की प्रयोगशाला में जीनोम के एक भाग का भी विश्लेषण किया गया है, जिसे पहले अच्छी तरह से नहीं खोजा गया था। नया अनुदान उस काम को आगे बढ़ाएगा।

“हम जीनोम के डार्क मैटर दार्थ को समझना चाहते हैं। इनमें से कुछ एलएनसीआरएनए निश्चित रूप से कैंसर बायोमाकर्स के रूप में बहुत उपयोगी होंगे और हमें लगता है कि एक सबसेट जैविक प्रक्रियाओं में महत्वपूर्ण है,” चिन्नैयन कहते हैं।

“हम उम्मीद करते हैं कि रोगियों के इलाज विकल्पों को मार्गदर्शन करने के लिए मरीजों के आणविक ब्लूप्रिंट होना एक आम बात बन जाए।”