शुष्क क्षेत्रों में सिंचाई एक दशक के लिए मलेरिया का खतरे को बढ़ा सकते हैं

अगस्त 12, 2013
Contact: umichnews@umich.edu

एक एनोफ़ेलीज़ stephensi मच्छर, उत्तर पश्चिम भारत में मलेरिया संचारित करने के लिए ज्ञात प्रजातियों में से एक है. यह मच्छर अपनी सूंड के माध्यम से अपने मानव मेजबान से एक रक्त भोजन प्राप्त है. क्रेडिट: सीडीसी / जिम Gathany.एक एनोफ़ेलीज़ stephensi मच्छर, उत्तर पश्चिम भारत में मलेरिया संचारित करने के लिए ज्ञात प्रजातियों में से एक है. यह मच्छर अपनी सूंड के माध्यम से अपने मानव मेजबान से एक रक्त भोजन प्राप्त है. क्रेडिट: सीडीसी / जिम Gathany.एन आर्बर – शुष्क क्षेत्रों में नये सिंचाई की प्रणालियाँ किसानों के लिये लाभदायक हो सकती हैं लेकिन वो स्थानीय निवासियों को मलेरिया के ख़तरे में डालते हैं। महंगे कीटनाशक के गहन उपयोग के बावजूद ख़तरा एक दशक तक यह सकता हैं, यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के नेतृत्व में उत्तर पश्चिम भारत में किये गये से पता चलता है।

शोधकर्ताओं के अनुसार अध्ययन बड़े पैमाने पर सिंचाई परियोजनाओं के निर्माण के दौरान सार्वजनिक स्वास्थ्य और सुरक्षा कार्यक्रमों को वित्तीय और लागू करने के लिए एक मजबूत, बाध्यकारी प्रतिबद्धता शामिल करने की आवश्यकता प्रदर्शित करता है।

“इन सूखी, नाजुक पारिस्थितिकी प्रणालियों में, जहां वर्षा से पानी की उपलब्धता मलेरिया संचरण के लिए जरूरी हैं, वहाँ सिंचाई मलेरिया के बुनियादी ढांचे की सीमा से ऊपर मच्छर आबादी को परिवर्तन कर सकता हैं,” प्रमुख लेखक और यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के स्नातक छात्र एन्ड्रेस बाइजा ने कहा जो पारिस्थितिकी और विकासवादी जीव विज्ञान विभाग में मर्सिडीज पास्कुअल की प्रयोगशाला में काम करते हैं।

“हमारे परिणाम जल संसाधनों से संबंधित परियोजनाओं की दीर्घकालिक योजना, मूल्यांकन और शमन में स्वास्थ्य प्रभावों पर विचार के लिए आवश्यकता पर प्रकाश डालता है,” बाइजा ने कहा।

शोधकर्ताओं ने गुजरात के एक अर्द्ध शुष्क क्षेत्र में निर्माणाधीन एक बड़ी सिंचाई परियोजना के आसपास भूमि के उपयोग में परिवर्तन और मलेरिया के खतरे का अध्ययन किया। परियोजना के अंततः पानी 47 लाख एकड़ जमीन को कवर कर एक लाख किसानों को लाभ पहुचायेगा।

शुष्क क्षेत्रों में मलेरिया का खतरा अक्सर सिंचाई की शुरूआत से बढ जाता है क्योंकि खड़े पानी मच्छर प्रजनन स्थलों के रूप में काम करते हैं। विश्व स्तर पर, सिंचाई नहरों और संबंधित बुनियादी सुविधाओं के लिए निकटता की वजह से मलेरिया का खतरा लगभग ८०० मिलियन लोगों को होता है।

ऐतिहासिक सबूत से पता चलता है कि शुष्क स्थानों में सिंचाई शुरू होने के बाद, मलेरिया का खतरा अंत में कम हो जाता हैं और भोजन बनाम रोग की दुविधा समृद्धि के सड़क पर एक अस्थायी चरण है।

अध्ययन दर्शाता है कि रोग के उच्च जोखिम से कम रोग के संक्रमण में एक दशक से अधिक समय लगता हैं जो पहले पता नही था। इस अध्ययन ने पहली बार एक मेगा सिंचाई परियोजना की प्रगति के दौरान एक बड़े क्षेत्र में वनस्पति कवर के उपग्रह इमेजरी को स्वास्थ्य रिकॉर्ड के साथ ट्रैक किया हैं।

यह निष्कर्ष राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी की कार्यवाही में ऑनलाइन 12 अगस्त को प्रकाशित किया जायेगा।

“उप जिले के स्तर पर मलेरिया घटना, वनस्पति और सामाजिक आर्थिक आंकड़ों में परिवर्तन से पहचान कर सकते है कि स्थायी कम मलेरिया के खतरे तक पहुचने के लिये एक दशक से अघिक लग सकता हैं और गहन मच्छर नियंत्रण के प्रयासों के बावजूद एक बढ़ा हुआ मलेरिया का पर्यावरण बन जाता हैं,” पेसकुअाल ने कहा जो यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के पारिस्थितिकी और विकासवादी जीवविज्ञान की अनुदान कॉलेजिएट प्रोफेसर अौर हॉवर्ड ह्यूजेस मेडिकल इंस्टीट्यूट में अन्वेषक हैं।

पास्कुअल कहती हैं कि पर्यावरण के तरीकों से स्थायी रोग नियंत्रण की तत्काल जरूरत है। इन तरीकों में रुक- रुक कर सिंचाई करना और नहरों को सामयिक फ्लश करना शामिल हैं. यह दिखाने हैं कि सस्ती और प्रभावी तरीके स्थानीय स्तर पर लागू किये जा सकते है।

“आगे चुनौती है कि व्यापक क्षेत्रों में इन तरीकों को लागू किया जाये और काफी लंबे समय तक उन्हें बनाए रखा जाए,” पेसकुअाल, जो एक सैद्धांतिक विज्ञानी हैं, ने कहा।

मलेरिया प्लाज्मोडियम परजीवी से, जो संक्रमित मच्छरों के काटने से, फैलता है। शरीर में परजीवी कलेजे में वृद्धि कर लाल रक्त कोशिकाओं को संक्रमित करते हैं।

PNAS के अध्ययन में शोधकर्ताओं ने १९९७ से ग्रामीण क्षेत्रों मेंसूक्ष्मतापूर्वक मलेरिया के डेटा की जांच की। उपग्रह इमेजरी का उपयोग कर, शोधकर्ताओं ने सिंचित फसलों अौर गैर सिंचित फसलों के बीच वर्णक्रमीय हस्ताक्षर से भेदभाव किया।

उन्होनें बड़े पैमाने पर सिंचाई परियोजना की प्रगति के दौरान मलेरिया के बदलते स्तर को अध्ययन किया। वे कहते हैं कि अघिक रोग का खतरा – कीटनाशकों के भारी उपयोग के बावजूद – पिछले दशक में मुख्य सिंचाई नहर से सटे क्षेत्रों में केंद्रित है।

उन्होनें सुदूर संवेदन और महामारी विज्ञान के निष्कर्ष को विभिन्न सामाजिक आर्थिक कारकों से जोडा। सामान्य रूप में, उच्च खतरे वाले क्षेत्रों कम साक्षर लोग और स्वच्छ पीने के पानी के कम स्रोत थे।

“सिंचित और परिपक्व सिंचाई क्षेत्रों में सामाजिक आर्थिक और पारिस्थितिक मतभेद मलेरिया के बोझ को कम करने और परिवर्तन का दौर छोटा करने के लिए साधन प्रदान कर सकता है,” लेखकों ने कह।

बाइजा और पास्कुअल के अलावा, PNAS पेपर के लेखक हैं – लंदन स्कूल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन और स्वच्छता के मेन्नो जन बौमा, भारत के राष्ट्रीय मलेरिया रिसर्च संस्थान के रमेश धीमान, उम के एडवर्ड बी बासकरवील, कोलंबिया विश्वविद्यालय के पिएत्रो सेकातो, और विश्व स्वास्थ्य संगठन के भारत के राष्ट्रीय मलेरिया अनुसंधान के राजपाल यादव।