नेतृत्व प्रशिक्षण के लिए भारतीय शिक्षक मिशिगन यूनिवर्सिटी आये

जनवरी 10, 2019
Contact: Mandira Banerjee mandirab@umich.edu
मिशिगन विश्वविद्यालय के अध्यक्ष मार्क श्लीसेल एन अर्बोर में भारतीय शिक्षकों से बात करते हुए।

मिशिगन विश्वविद्यालय के अध्यक्ष मार्क श्लीसेल एन अर्बोर में भारतीय शिक्षकों से बात करते हुए।

एन आर्बर- लगभग 30 भारतीय शिक्षक मिशिगन यूनिवर्सिटी के रॉस स्कूल ऑफ बिजनेस में शिक्षाविदों के लिए एक नए नेतृत्व कार्यक्रम में एक सप्ताह बिता रहे हैं।

भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया LEAP कार्यक्रम शैक्षणिक नेताओं के लिए तीन सप्ताह का प्रशिक्षण कार्यक्रम करता है। यू-एम के रॉस बिजनेस स्कूल और आईआईटी-रुड़की के बीच यह सहयोग इस श्रृंखला का पहला कार्यक्रम है।

भारत के 15 राज्यों से आए शिक्षकों ने नए शिक्षा कार्यक्रम के तहत पहले दो सप्ताह भारत में बिताए। वे भारत में शैक्षणिक नेतृत्व के विकास के लिए महत्वपूर्ण क्षेत्रों को कवर करने के लिए यू-एम के एन आर्बर परिसर में अंतिम सप्ताह बिता रहे हैं।

यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के अध्यक्ष मार्क श्लिसल अौर रॉस स्कूल ऑफ बिजनेस के डीन स्कॉट डी आरयू के साथ LEAP कार्यक्रम के भारतीय प्रतिभागी।

यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के अध्यक्ष मार्क श्लिसल अौर रॉस स्कूल ऑफ बिजनेस के डीन स्कॉट डी आरयू के साथ LEAP कार्यक्रम के भारतीय प्रतिभागी।

आईआईटी-रुड़की के प्रोफेसर, भूपेंद्र गांधी ने कहा, “अमेरिका में उच्च शिक्षा संस्थान के काम के बारे में जानना नया अनुभव था। हम इसे भारतीय संदर्भ में अपनाने के लिए उत्सुक हैं।”

यू-एम में, भारतीय शिक्षकों ने शैक्षणिक संचालन, प्रौद्योगिकी व्यवधान, छात्र व्यवसाय और नये तकनीकों के बारे में कई कार्यशालाओं और व्याख्यानों में भाग लिया।

“हम भारत के उच्च शिक्षा में महत्वपूर्ण नेतृत्व विकास कार्यक्रम में भागीदार चुने जाने से संमानित हैं,” एम.एस. कृष्णन ने कहा जो रॉस स्कूल में सहयोगी डीन हैं। “हम भारत के शैक्षिक संस्थानों में नेतृत्व को सहयोग देने के लिए तत्पर हैं।”

प्रशिक्षण के दौरान प्रतिभागियों ने कई वरिष्ठ यू-एम नेताओं के साथ मुलाकात की, जिनमें अध्यक्ष मार्क श्लिसल, प्रोवोस्ट मार्टिन फिलबर्ट, रॉस स्कूलके डीन स्कॉट डी आरयू और इंजीनियरिंग कॉलेज के डीन एलेक गैलिमोर शामिल थे।

“मैं अपने छात्रों को सीके प्रहलाद का काम सिखाती हूं,” ललिता रामकृष्णन ने कहा जो पॉन्डिचेरी विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हैं। “उनके यूनिवर्सिटी के वही हॉल में चलना प्रेरणात्मक है।