प्रेग्नेंसी के दौरान देर तक सोने से मृतजन्म का खतरा

फ़रवरी 18, 2019
Contact: Mandira Banerjee mandirab@umich.edu
प्रेग्नेंसी के दौरान देर तक सोने से मृतजन्म का खतरा

प्रेग्नेंसी के दौरान देर तक सोने से मृतजन्म का खतरा

एन आर्बर — एक नए अध्ययन से पता चलता है कि गर्भावस्था के दौरान नौ घंटे से अधिक सोने से बच्चा मृत पैदा होने का खतरा बड जाता है।

मिशिगन मेडिसिन के नेतृत्व में शोधकर्ताओं के एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने 153 महिलाओं के ऑनलाइन सर्वेक्षण का विश्लेषण किया, जिन्होंने प्रसव के दौरान (गर्भावस्था के 28 सप्ताह बाद या बाद में) मृतजन्म का अनुभव किया था और 480 महिलायें जो तीसरी-तिमाही गर्भावस्था में हैं जन्म दिया हैं।

यह निष्कर्ष, जो जर्नल बर्थ में प्रकाशित हुये, लंबे समय तक अविवेकी मातृ नींद और स्टिलबर्थ के बीच संबंध दिखाते है जो अन्य कारकों से स्वतंत्र थे।

लेकिन शोधकर्ताओं ने आगाह किया है कि रिश्ते को बेहतर ढंग से समझने के लिए और इसका गर्भवती महिलाओं पर इसका क्या असर है, इसके लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है।

“गर्भवती महिलाएं अक्सर जगने और रात के बीच उठना रिपोर्ट करती हैं,” लीड लेखक लुईस ओ ब्रायन ने कहा, जो स्लीप मेडिसिन विभाग, न्यूरोलॉजी विभाग अौर मिशिगन मेडिसिन में प्रसूति और स्त्री रोग में शोधकर्ता है। ।

“हालाकि रात के दौरान कई बार जगने से कुछ महिलाओं को चिंतित हो जाती हैं, लेकिन प्रसव के संदर्भ में यह सुरक्षात्मक प्रतीत होता है।”

नींद का पैटर्न और मातृ स्वास्थ्य
दरअसल, इस स्टडी के माध्यम से शोधकर्ता यह बताने की कोशिश की गई है कि सोने के दौरान गर्भवती महिला का ब्लड प्रेशर नीचे चला जाता है जिसका भ्रूण के विकास पर असर पड सकता है। जब किसी को जगाया जाता है, तो तंत्रिका की गतिविधि में वृद्धि होती है जिससे रक्तचाप में क्षणिक वृद्धि होती है।

वैश्विक समस्या के लिए नया दृष्टिकोण

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्रों के अनुसार, अमेरिका में हर साल स्टिलबर्थ लगभग 160 गर्भधारण में से १ को प्रभावित करता है। हर साल 24,000 स्टिलबर्थ शिशुओं का जन्म होता है जो SIDS से 10 गुना अधिक हैं।

आधे से अधिक मौते गर्भावस्था के 28 सप्ताह के बाद होते हैं जो अस्पष्टीकृत हैं।

निम्न-आय वाले देशों में दरें और भी बदतर हैं, लेकिन अमेरिकी स्थिर दर कई अन्य पश्चिमी देशों की तुलना में अधिक है।

“गर्भावस्था शुरू होने के बाद स्टिलबर्थ के कई जोखिम कारक संशोधित नहीं किये जा सकते हैं। लेकिन हमें हर संभव हस्तक्षेप को देखना चाहिए जो खराब परिणामों को रोक सकता है। स्टिलबर्थ मौतों को कम करने में प्रगति धीमी रही है, लेकिन स्टिलबर्थ एक वैश्विक स्वास्थ्य मुद्दा है जो अधिक शोध कार्यक्रमों के केंद्र में होना चाहिए,” लुईस ओ ब्रायन ने कहा।