लड़कियों में मासिक धर्म चक्र की शुरुआत लाल मांस की खपत से जुड़ा

मार्च 9, 2016
Contact: umichnews@umich.edu

एक काटने बोर्ड पर स्टीक मछली के ढेर के बगल में। (शेयर छवि)एन आर्बर- लड़कियाँ जो लाल मांस खाती है अक्सर उनका मासिक धर्म लाल मांस नहीं खाने वालों की तुलना में पांच महीने पहले शुरू हो जाता हैं।

इसके विपरीत, लड़कियाँ जो टूना और सार्डिन जैसे फैटी मछली सप्ताह में एक बार से अधिक खाती हैं, अक्सर उनका मासिक धर्म या पिरीअड कम मछली खाने वाली लड़कियों की तुलना में देर से शुरू होता हैं मिशिगन यूनिवर्सिटी का शोध दिखाता हैं।

यू-एम पब्लिक हेल्थ स्कूल के शोधकर्ताओं ने बोगोटा, कोलम्बिया में 5 से 12 साल की 456 लड़कियों में मासिक धर्म शुरू होने से पहले सामान्य आहार मापा। फिर छह साल तक लड़कियों को फालो किया।

इस समय के दौरान, उनसे उनके पिरीअड के बारे में पूछा गया।

लड़कियों में लाल मांस की खपत विभिन्न थी – कुछ हफ्ते में चार बार और कुछ दिन में दो बार खाती थी। लड़कियाँ जो अधिक लाल मांस खाती है, उनमें पिरीअड लगभग 12 साल 3 महीने की औसत उम्र में शुरू हुआ, जबकि जो कम खाती थी, उनमें मासिक धर्म 12 साल 8 महीने में शुरू हुआ। फैटी मछली खाने वाली लड़कियों में मासिक धर्म 12 साल 6 महीने में शुरू हुआ।

पांच महीने ज़्यादा नहीं लगते है, लेकिन जनसंख्या अध्ययन में यह एक महत्वपूर्ण संख्या है, शोधकर्ताओं ने कहा।

“यह एक महत्वपूर्ण अंतर है क्योंकि यह बाद में रोग के रिस्क से जुड़ा है,” शोधकर्ता एरिका जैनसन ने कहा जो यू-एम पब्लिक हेल्थ स्कूल में डॉक्टरेट उम्मीदवार हैं। “यह महत्वपूर्ण है क्योंकि कुछ आहार युवावस्था के समय को प्रभावित करते है। यह निष्कर्ष प्रारंभिक जीवन में लाल मांस के सेवन और बाद मे स्तन कैंसर के खतरे को समझने में भी योगदान देता है।”

स्तन कैंसर के अलावा, यौवन की जल्दी शुरूआत हृदय रोग, मोटापा और टाइप टू मधुमेह से भी जुड़ा हुआ है।

“इस अध्ययन से हम निष्कर्ष नहीं निकाल सकते कि यौवन की शुरुआत में लाल मांस करणीय भूमिका निभाता है। हालांकि, अब बढ़ता सबूत है कि जीवन के विभिन्न चरणों में लाल मांस की अत्यधिक सेवन से स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव हो सकता हैं जैसे कि कुछ प्रकार के कैंसर, “वरिष्ठ लेखक डॉ एडुआर्डो विलामोर ने कहा जो यू-एम पब्लिक हेल्थ स्कूल में महामारी विज्ञान के प्रोफेसर हैं।

विलामोर ने नोट किया कि पहले प्यूबर्टी से अन्य सार्वजनिक स्वास्थ्य संबंधी चिंताये भी है जैसे कि यौन गतिविधि, किशोर गर्भावस्था, और शराब और तंबाकू का इस्तेमाल।

“हालांकि बचपन के दौरान पशु प्रोटीन वृद्धि और विकास के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन कुछ पशु प्रोटीन दूसरों की तुलना में बेहतर है,” विलामोर ने कहा।

अधिक जानकारी:
अध्ययन (PDF)

एडुआर्डो विलामोर

एरिका जेनसन