छुट्टी के दौरान भीड़-भाड़ के उड़ान में धूल घुन साथी

दिसम्बर 17, 2014
Contact: umichnews@umich.edu

एक स्कैनिंग इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप छवि एक अमेरिकी घर धूल घुन की (बढ़ाई X270), Dermatophagoides farinae। छवि क्रेडिट: एलेन फुट Perkowskiएक स्कैनिंग इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप छवि एक अमेरिकी घर धूल घुन की (बढ़ाई X270), Dermatophagoides farinae। छवि क्रेडिट: एलेन फुट Perkowskiएन आर्बर- छुट्टीयों के दौरान की यात्रा अक्सर काफी तनावपूर्ण होती है। अब यूनिवर्सिटी ऑफ़ मिशिगन के शोधकर्ताा कहते हैं कि इस यात्रा के दौरान एयरलाइन केबिन में भीड़-भाड़ के साथ अनगिनत छोटे घुन भी हमारे संगी होगें।

“विमान बोर्ड करते समय लोगों को एहसास नहीं होता है कि तकनीकी प्रगति का लाभ लेने के लिये मानव के साथ कई सूक्ष्म सवारी भी होते हैं,” मिशिगन यूनिवर्सिटी के जीवविज्ञानी पावेल क्लिमोव ने कहा।

“घर में घुन आसानी से एयरलाइन यात्री के कपड़े, त्वचा, भोजन और सामान पर यात्रा कर सकते हैं,” क्लिमोव ने कहा जो पारिस्थितिकी और विकासवादी जीवविज्ञान में सहायक अनुसंधान वैज्ञानिक हैं। “इंसानों की तरह, वो भी हवाई यात्रा का उपयोग कर नए स्थानों की यात्रा करते हैं जहाँ वो नई आबादी की स्थापना कर विभिन्न साधनों के माध्यम से अन्य जीवों के साथ मिलते है अौर एक दूसरे को प्रभावित करते हैं।”

क्लिमोव और विज़िटिंग स्कालर रूबाबा हामिद द्वारा किए गए एक नए आनुवांशिक अध्ययन के निष्कर्षों के अनुसार संयुक्त राज्य अमेरिका और दक्षिण एशिया के धूल के घुन की आबादी के बीच कनेक्शन हैं जो शायद विमान यात्रा से अाया हैं।

यह शोध PLoS जर्नल के 10 दिसंबर के ऑनलाइन प्रकाशन में छपा।

“हमने पाया कि घुन की आबादी दरअसल, महाद्वीपों में माइग्रेशन से जुड़ी हुई हैं,” हामिद ने कहा। “घुन सफलतापूर्वक एक नई जगह जाकर अपने आनुवंशिक हस्ताक्षर लाता है लेकिन भौगोलिक मतभेद अभी भी पता लगाया जा सकता है ।”

अध्ययन ने दो चिकित्सकीय महत्वपूर्ण घुन प्रजातियों पर जोर दिया – अमेरिकी और यूरोपीय । दोनों प्रजातियों का वैश्विक वितरण हैं हालांकि अमेरिकी अमेरिका के प्रचुर मात्रा में है।

यह दो प्रजातियों शायद पूर्वजों की उत्पत्ति से पहले, लगभग 81 लाख साल पहले, एक-दूसरे से अलग हो गये थे जब वो पक्षियों के घोंसले में बसते थे। आजकल, घर में धूल के कण गद्दे, सोफा में रहते हैं और दुनिया भर में 65 लाख से अधिक लोगों में एलर्जी के लिए दोषी ठहराये जाते है।

हामिद, क्लिमोव और उनके सहयोगियों ने अमेरिका और पाकिस्तान में एकत्र दो घुन प्रजातियों के नमूनों के समूह में ऐलर्जेन के जीन में आनुवंशिक परिवर्तन की जांच की। ऐलर्जेन के ग्रूप १ जीन घर में धूल कण के सबसे महत्वपूर्ण एलर्जी वाले प्रोटीन होते हैं।

इस प्रोटीन का एक निष्क्रिय रूप दुनिया भर में एलर्जी के लिए त्वचा चुभन परीक्षण के के रूप में क्लीनिक में प्रयोग किया जाता है।

अगर इस प्रोटीन का स्थानीय आनुवंशिक वेरिएंट टेस्ट में शामिल नही हो तो परीक्षण गलत हो सकता है, क्लिमोव ने कहा। अमेरिका में ऐलर्जेन के ग्रूप १ पर भौगोलिक बदलाव बड़े पैमाने पर अध्ययन नहीं किया गया है।

“दुनिया भर में, और विशेष रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका में ऐलर्जेनिक प्रोटीन की विविधता के बारे में विचार करने की जरूरत है,” उन्होंने कहा।

“सबसे अनपेक्षित परिणाम प्रोटीन के सक्रिय स्थल के पज़िशन 197 पर म्यूटेशन पाना था,” क्लिमोव ने कहा। “यह म्यूटेशन दक्षिण एशिया में घर धूल घुन की जनसंख्या में पाया जाता हैं।

“हमारे विश्लेषण के अनुसार यह म्यूटेशन एंजाइम की गतिविधि में परिवर्तन कर सकता है कि इंगित करता है। “हमारी प्रयोगशाला इसे स्पष्ट करने के लिए प्रयोग जारी हैं,” उन्होंने कहा।

हामिद पाकिस्तान के रावलपिंडी के पीर मेहर अली शाह शुष्क कृषि विश्वविद्यालय में जूलॉजी विभाग में है। PLoS पेपर के अन्य लेखकों में लाहौर, पाकिस्तान में पंजाब विश्वविद्यालय के मुहम्मद इनाम; पीर मेहर अली शाह शुष्क कृषि विश्वविद्यालय की फरहाना रियाज चौधरी; और यूनिवर्सिटी ऑफ़ मिशिगन के पारिस्थितिकी और विकासवादी जीवविज्ञान के बैरी Oconnor हैं।

शोध को अमेरिका के राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन, उच्च शिक्षा आयोग और पाकिस्तान के अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान समर्थन कार्यक्रम, रूसी शिक्षा और संघ के विज्ञान मंत्रालय, और अमेरिका के राष्ट्रीय पडिक्यलोसिस एसोसिएशन से सहायता मिली।

 

संबंधित लिंक:

पावेल क्लिमोव: http://bit.ly/1zwoeSL
शोध: http://www.plosone.org/article/info%3Adoi%2F10.1371%2Fjournal.pone.0114636