मैट्रिमोनियल वेबसाइट प्रोफाइल भारतीयों को इंटरकास्ट मैरिज के लिए खुलापन दिखाती है

जून 20, 2019
Contact: Mandira Banerjee mandirab@umich.edu

Indian wedding rings. Image credit: iStock

एन आर्बर- एक मैचमेकिंग वेबसाइट के डेटा की जांच करके, मिशिगन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने पाया कि कई भारतीय इंटरकास्ट मैरिज के बारे में अपना नजरिया बदलने लगे हैं।

इसके लिए स्कूल ऑफ इंफॉर्मेशन के डेविड जुर्गेंस और अश्विन राजदेसिंगन और साहित्य, विज्ञान और कला कालेज में मनोविज्ञान विभाग के रामास्वामी महालिंगम ने भारतीय मेट्रिमोनिअल वेबसाइट्स के 3 लाख 13 हजार प्रोफाइल का अध्ययन किया।

शोधकर्ताओं ने कहा कि मैच डॉट कॉम जैसे प्लेटफॉर्म के विपरीत, जहां लोग डैटिंग करते हैं, वैवाहिक साइटें पारंपरिक तरीके से शादी के प्रक्रिया के लिये सुविधा प्रदान करती हैं।

“सरकार और सामाजिक समूहों के प्रयास के बावजूद, जाति लोगों के जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह जाति का प्रश्न प्रश्नावली के पहले पृष्ठ पर है, जो वास्तव में जोर देता है कि कुछ लोग इसे कितना महत्वपूर्ण मानते हैं,” राजदेसिंगन ने कहा, जो अध्ययन के प्रमुख लेखक हैं। “साइट पर लोग शादी करना चाहते हैं, इसलिए इंटरकास्ट मैरिज पर उनकी राय पाने का बेहतरीन तरीका है।”

पिछली शोधों के अनुसार, वृद्धावस्था से कुछ खुलापन पाया गया है, यह अंतर शिक्षा के बढ़ते प्रभाव, ग्रामीण क्षेत्रों में रहना, माताओं का नौकरी करना और निचली जातियों के प्रति लोगों की बदलती भावना के कारण आया है। इसके अलावा युवा पीढ़ी की सोच में आया बदलाव तो सबसे बड़ा कारण है।

पुरस्कार विजेता अध्ययन के वरिष्ठ लेखक जर्गेंस ने कहा, “हालांकि हमने पाया कि युवा पीढ़ी में शादी के लिये खुलापन है, जो व्यवहार में एक पीढ़ीगत बदलाव की ओर इशारा कर रहा है।”

विश्लेषण में पता चला कि अमेरिका में रहने वाले भारतीय अंतरजातीय विवाह के लिए कम उदार होते हैं। लोग उन्हें सांस्कृतिक पहचान बनाए रखने पर ध्यान देने का सुझाव देते हैं, क्योंकि विदेशों में वे अल्पसंख्यक होते हैं। अमेरिका में केवल 14% लोग ही ऐसे विवाह को महत्व देते हैं, जबकि भारत में यह 21% है।
अधिकांश भाग के लिए, जाति पर जनता की राय के सटीक माप पिछले शोध के माध्यम से उपलब्ध नहीं थे। जर्गेंस सुझाव देते हैं कि यह संभावना लोगों के लिए एक प्रवृत्ति के कारण होती है, जब उनसे पूछा जाता है कि क्या वे पारस्परिक संबंधों का पक्ष लेते हैं, तो उन्हें लगता है कि उनके द्वारा अपेक्षित उत्तर देने के लिए, एक सामाजिक वांछनीयता प्रतिक्रिया पूर्वाग्रह कहा जाता है।

अध्ययन ने उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता को ध्यान में रखा और वेबसाइट से किसी भी व्यक्तिगत विवरण का अध्ययन में उपयोग नहीं किया गया।

अध्ययन के अन्य मुख्य निष्कर्ष:

  • भारत में, उत्तरी राज्यों में दक्षिणी राज्यों की तुलना में विवाह के लिए पर्याप्त खुले हैं।
  • अमेरिका में व्यक्तियों को भारत में शादी की तुलना में बहुत कम खुलापन है, लगभग 14% बनाम 23%। हालांकि, भारतीय प्रवासियों की तुलना में, अमेरिका में रहने वाले भारतीय में अधिक खुलापन हैं, जो आधुनिकीकरण सिद्धांत का समर्थन करता हैं कि व्यक्ति आसपास के वातावरण के पहलुओं को अपनाएंगे।
  • कम आर्थिक स्थिति वाले लोग विवाह के लिए खुले होने की संभावना कम है।

अधिक जानकारी: